• शुक्रवार , 20:09:2019
  • Contact
  • लखनऊ, 27 o C
logo
logo
हरियाणा के यमुनानगर से एक इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आयी है
Blog single photo

यमुनानगर: हरियाणा के यमुनानगर से एक इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आयी है. यहां एक गैंगरेप पीड़िता लगभग तीन महिने से पुलिस की चौखट पर इंसाफ की गुहार लगा रही है.लेकिन पुलिस प्रशासन की ओर से कोई कार्यवाही न होने के कारण पीड़िता ने थाने में जहर खाकर आत्महत्या कर लिया. इतना ही नहीं जहर खाने के बाद तड़प रही पीड़िता को पुलिस ने अस्पताल भी नहीं पहुंचाया. साथ ही पीड़िता के परिजनों को भी पीड़ि‍ता को अस्पताल ले जाने से जबरन रोके रखा.

बता दें कि महज 22 वर्षीय युवती आखरी सांस तक आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की गुहार लगाती रही. लेकिन, पुलिस प्रशासन के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी. इस मामले में परिजनों का आरोप है कि उनकी बेटी की मौत के जिम्मेवार पुलिस है. उनका कहना है कि मिन्नत करने के बावजूद युवती को अस्पताल नहीं ले जाने दिया गया. वहीं इस घटना के बाद इलाके में तनाव के कारण निजी अस्पताल में तनाव की स्थिती बनी रही. लोगों में लगातार बढ़ रहे आक्रोश को देखते हुए आलाधिकारी दोषियों को जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन देते रहे. 22 वर्षीय पीड़िता को डॉक्टर बचा नहीं सके.

हालांकि घटना के बाद आक्रोशित लोगों को शांत करने के लिए यमुनानगर के डीएसपी सुभाषचंद सख्त कार्रवाई का आश्वासन दे रहे हैं. उनके अनुसार पुलिस के पास मृतका के पिता की शिकायत आ चुकी है और दोषियों को काबू करने के लिए स्पेशल टीम का भी गठन कर दिया गया है.

गौरतलब है कि पीड़िता को मनोज नामक एक युवक बहला-फुसलाकर भगा ले गया था और फिर उसके साथ रेप कर शादी करने से इंकार कर दिया था. इसके बाद पीड़िता ने इंसाफ के लिए जठलाना पुलिस स्टेशन से लेकर यमुनानगर एसपी तक का दरवाजा खटखटाया, लेकिन हर बार उसकी बात को अनसुना कर दिया गया. जिस वक्त पीड़िता ने जठलाना पुलिस स्टेशन में जहर खाया, उस वक्त भी वह अपने दोषियों को गिरफ्तार करने की गुहार लगा रही थी.

हाल की टिप्पणियां

टिप्पणियां दें

2500
footer
Top