• शनिवार , 17:08:2019
  • Contact
  • लखनऊ, 27 o C
logo
logo
सवालों की बौछार से तबीयत बिगड़ने का बहाना भी बनाया
Blog single photo

लखनऊ: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को भी पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से छह घंटे से ज्यादा पूछताछ में पसीने छुड़ा दिये। उन्होंने कई बार बयान बदले। सवालों की बौछार से तबीयत बिगड़ने का बहाना भी बनाया। केजीएमयू में भर्ती गायत्री से बुधवार को पूछताछ का सिलसिला 11 बजे से लेकर शाम पांच बजे के बाद तक जारी रहा। ईडी की टीम ने खास तौर पर उनकी संपत्ति को लेकर सवाल किये।

ईडी ने गायत्री से पूछा कि मंत्री रहने के दौरान उनके पास आय से अधिक की संपत्ति कैसे आ गयी। कितनी संपत्ति पैतृक है और कितनी उन्होंने अर्जित की है। उनसे कुछ कंपनियों के बारे में भी जानकारी मांगी जिनमें उनकी ऊपरी कमाई होने की बात सामने आ रही है।कई सवालों पर उन्होंने पहले आरोप स्वीकार किये लेकिन बाद में मुकर भी गये। गायत्री कुछ सवालों पर चुप्पी साध गये और कुछ सवालों के बारे में जानकारी नहीं होने की बात कह कर उसे टालने की कोशिश करते रहे।

इस बीच उन्होंने दो से तीन बार तबीयत बिगड़ने की बात कही जिस पर चिकित्सकों को बुलाया गया और फिर पूछताछ का सिलसिला शुरू कर दिया गया। कुछ सवालों को वे बेबुनियाद बताने की कोशिश करते रहे तो कुछ पर कहा कि उन पर गलत आरोप लगाया जा रहा है। करीबियों व रिश्तेदारों की सम्पत्ति को लेकर भी की गई पूछताछ ऐसे जवाबों पर ईडी उनकी संपत्तियों से जुड़े दस्तावेज दिखाती तब वे चुप्पी साध जाते।

ईडी ने गायत्री से उनके उन करीबियों व रिश्तेदारों की संपत्तियों के बारे में भी सवाल किये जो गायत्री की बताई जा रही हैं। ईडी ने गायत्री से उनके कार्यकाल में नियमों को दरकिनार कर किए गये। पट्टों के कुछ आवंटन को लेकर भी सवाल किये। ईडी ने उनसे पूछा कि इन आवंटन से उन्हें क्या लाभ मिला।

हाल की टिप्पणियां

टिप्पणियां दें

2500
footer
Top